Wednesday, 20 February 2013

PAHAL



इस महादेश के वैज्ञानिक विकास के लिए प्रस्तुत प्रगतिशील रचनाओं की अनिवार्य पुस्तक


                               मैं अपने वसीयतनामे में और बातें लिखना 
                               चाहता हूँ, लेकिन मैं पस्त हो चुका हूँ। मेरे शरीर 
                               की एक एक शिरा थक चुकी है। फिर मेरी हिन्दी 
                               भी टुटपुंजिया है। मुझे अपने धर्म और देश के प्रति 
                               वफादार रहना सिखाया गया  था लेकिन अब तक 
                               मैं पूरा नास्तिक हो चुका हूँ और अपने देश के 
                               खिलाफ मैंने हथियार उठा लिया। अब मैं सोचता हूँ 
                               कि यह रास्ता बरबादी की तरफ ले जायेगा। लेकिन 
                               मैं वापस नहीं लौट सकता। अगर यह वसीयत 
                               आप लोगों के हाथ लगे तो पढिय़ेगा और सोचियेगा कि 
                               आदिवासी लोग क्यों बागी हो रहे हैं।
                                                                      
                                                                उदयभानु पांडेय की एक कहानी से 
                                                                डिफू, असम 2012




1 comment:

  1. पहल ९३
    पत्राचार
    सवाल क्या पंडित हजारी प्रसाद द्विवेदी को २५ प्रतिशत अंक मिलने चाहिए ????

    ReplyDelete